टैली क्या है, कैसे सीखें और इसमें करियर बनाये

0

Tally क्या है – आधुनिक युग कंप्यूटर और इन्टरनेट का युग है. इसीलिए आजकल ज्यादातर काम हम कंप्यूटर से ही कर लेते हैं. आपने देखा या सुना होगा कि सभी कंपनियां अपने एकाउंटिंग के कामो को सम्हालने के लिए किसी सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करती हैं. Tally भी उन सॉफ्टवेयर में से एक हैं.

Tally क्या है

लाखों लोग टैली कोर्स कर के गवर्नमेंट या प्राइवेट सेक्टर में जॉब कर रहे हैं. अगर आप भी टैली में अपना करियर बनाना चाहते हैं और टैली के बारे में पूरी जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए ही है. इस लेख में हम हर वो चीज़ बताने वाले हैं जो टैली कोर्स करने वाले के लिए जरूरी हो सकता है। तो चलिए पहले जान लेते हैं यह टैली कोर्स क्या होता है.

टैली क्या है

टैली एक ऐसा एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है जिसका इस्तेमाल विभिन्न कंपनियाँ व्यवसाय (Business) में रिकार्ड्स तैयार करने, उसे मेंटेन करने और आवश्यक डेटा को सुरक्षित रखने के लिए करती हैं. दुसरे शब्दों में व्यापार में पैसों के लेन-देन से लेकर माल पर किये गए व्यय और मुनाफे का हिसाब रखने का काम इस कंप्यूटर सॉफ्टवेयर से किया जाता है.

वैसे तो मार्केट में काफी सारे एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर मौजूद हैं. लेकिन टैली को ही अधिकतर Multi-National Companies में यूज़ किया जाता है, क्योंकि यह काफी आसान है और इसमें काफी अच्छे फीचर मिलते हैं. जो स्टूडेंट्स 12th तक कॉमर्स सब्जेक्ट लेकर पढाई करते हैं उनके लिए इसे सीखना काफी आसान होता है.

टैली सॉफ्टवेयर का इतिहास

टैली का पहला वर्शन 1990 में सामने आया था. जिसे श्याम सुन्दर गोयनका एवं उनके बेटे भारत गोयनका के द्वारा तैयार किया गया था. उस समय श्याम सुन्दर गोयनका किसी कंपनी के मालिक थे और उन्हें एकाउंटिंग के कामो के लिए किसी अच्छे सॉफ्टवेयर की तलाश थी. इसी बीच उन्होंने अपने पुत्र भारत गोयनका के साथ यह विचार साझा किया.

भारत गोयनका जो कि Maths Graduate थे, उनके पिता ने ऐसा सॉफ्टवेयर बनाने के लिए उन्हें प्रेरित किया जो एकाउंटिंग के कामो को सम्हाल सके. इस प्रकार इसका पहला वर्शन Tally 4.5 लांच किया गया. यह वर्शन MS-DOS एप्लीकेशन के रूप में काम करता था.

इसके बाद काफी सारे नए वर्शन मार्केट में जारी किये गए. सभी वर्शन के बारे में नीचे दिए गए टेबल की सहायता से जाना जा सकता है.

टैली कोर्स करने हेतु योग्यता

  • टैली कोर्स करने के लिए किसी विशेष योग्यता की आवश्यकता नहीं है, इसे कोई भी कर सकता है.
  • किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से 12th का सर्टिफिकेट हो
  • English Language समझ आनी चाहिए क्योंकि टैली सॉफ्टवेयर को आपको Computer पर चलाना है.
  • 12th कक्षा में कॉमर्स विषय लेकर पढ़ा हुआ होना चाहिए.(अन्य विषय से पढ़े हुए लोगों के लिए थोडा कठिन है लेकिन वो लोग भी कर सकते हैं)

टैली कोर्स कहाँ से करें

जिन लोगों को टैली में करियर बनाना है, उन्हें यह जानना बेहद जरुरी है. हमारी यह सलाह है कि आपको अच्छे-से-अच्छे संस्थान में ही टैली का कोर्स करना चाहिए, क्योंकि एक बेहतर संस्थान ही आपको बेहतर ट्रेनिंग देता है जो आपका करियर बनाने में आपकी मदद करता है. नीचे कुछ प्रसिद्ध संस्थानों के नाम दिए गए हैं जहां से आप टैली कोर्स कर सकते हैं.

  1. द इंस्टिट्यूट ऑफ़ कंप्यूटर एकाउंटेंट्स बोरीवली (The Institute of Computer Accountants Borivali)
  2. सवेरा एजुकेशन – बेस्ट टैली क्लासेज इंदौर (Savera Education – Best Tally Classes Indore)
  3. टैली/एमआईएस/एडवांस्ड एक्सेल कोर्स ईस्ट दिल्ली (Tally/MIS/Advance Exel Course East Delhi)
  4. मदर इंस्टिट्यूट ऑफ़ इलेक्ट्रॉनिक टेक्नोलॉजी अहमदाबाद (Mother Institute of Electronic Technology Ahmedabad)
  5. नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी दिल्ली (National Institute of Electronics and Information Technology Delhi)

टैली कोर्स की Duration और फीस

टैली का कोर्स 3 से 6 महीने के अंदर आसानी से किया जा सकता है. इस प्रकार कोई इंसान सिर्फ 3 महीने की मेहनत लगा कर अपने पैरों पर खड़ा हो सकता है. ज्यादातर संस्थानों मे बात करने पर यह पता चला है कि टैली की फीस बेसिक कोर्स के लिए करीब 4000 रुपये है जो कि 3 महीने के लिए होता है, और एडवांस्ड कोर्स के लिए करीब 8000 रुपये फीस देनी होती है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ऊपर बताई गई फीस केवल एक एवरेज है. यह फीस विभिन्न संस्थानों मे अलग-अलग हो सकती है, यह इस बात पर निर्भर करता है कि वह संस्थान कितना अच्छा या प्रतिष्ठित है. यह फीस समय के साथ बदल भी सकती है.

टैली कोर्स का Syllabus या Subjects

टैली कोर्स के Syllabus मे आपको वह सब कुछ सिखाया जाएगा जो Tally Software में किया जा सकता है और एकाउंटिंग के लिए आवश्यक है. नीचे पूरे पाठ्यक्रम को बताया गया है.

  • जनरेटिंग जीएसटी रिपोर्ट(Generating GST Report)
  • ई-वे बिल(E-Way Bill)
  • रिकॉर्डिंग एडवांस्ड एंड एडजस्टमेंट एंट्रीज़(Recording Advanced and Adjustment Entries)
  • Getting Started with GST, Services (गेटिंग स्टार्टेड विद जीएसटी,सर्विसेज)
  • Getting Started with GST, Goods (गेटिंग स्टार्टेड विद जीएसटी, गुड्स)
  • इंट्रोडक्शन टू जीएसटी(Introduction to GST)
  • Data Management and Technical Aspects (डाटा मैनेजमेंट एंड टेक्निकल एस्पेक्ट्स)
  • Allocating and Tracking Expensive and Income (एलोकेटिंग एंड ट्रैकिंग एक्सपेंसिव एंड इनकम)
  • आर्डर प्रोसेसिंग(Order Processing)
  • प्रिंसिपल्स ऑफ़ एकाउंटिंग(Principles of Accounting)
  • डाटा मैनेजमेंट(Data Management)
  • स्टैचूअरी एंड टैक्सेशन जीएसटी एंड टीडीएस(Statuary and Taxation GST and TDS)
  • एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ़ कम्पलीट आर्डर प्रोसेसिंग साइकिल(Administration of Complete Order Processing Cycle)
  • स्टोरेज एंड क्लासिफिकेशन ऑफ़ इन्वेंटरी(Storage and Classification of Inventory)
  • एकाउंटिंग डे टू डे ट्रांजेक्सन(Accounting Day-to-Day Transactions)
  • बैंकिंग एंड पेमेंट्स(Banking and Payments)
  • एकाउंटिंग ऑफ़ टीडीएस अदर देन सैलरी(Accounting of TDS Other than Salary)
  • मेन्टेन इन जीएसटी कम्प्लियंट्स रिकार्ड्स यूजिंग टैली(Maintain in GST Compliants Records using Tally)
  • जनरेटिंग एमआईएस रिपोर्ट्स(Generating IMS Reports)
  • रिसिवेबल्स एंड पेएबल्स मैनेजमेंट(Receivables and Payables Management)
  • इन्वेंटरी मैनेजमेंट(Inventory Management)
  • फंडामेंटल्स ऑफ़ एकाउंटिंग(Fundamentals of Accounting)

टैली में करियर संभावनाएं

जिसने भी टैली का कोर्स कर लिया उसे नौकरी के लिए दर-दर भटकना नहीं पड़ता है. टैली का कोर्स करने वाले स्टूडेंट्स के पास करियर के काफी सारे अवसर होते हैं. जिसमे से आपको जो सही लगे वह काम आप कर सकते हैं. गिरी हालत में भी आपको किसी चार्टर्ड अकाउंटेंट या किसी वकील के पास प्राइवेट जॉब मिल ही जाएगी.

प्राइवेट सेक्टर में जॉब: निजी संस्थान वालों को भी ऐसे लोगों की तलाश रहती है जो उनके खाते को मेन्टेन रख सके और हिसाब-किताब रख सके. अगर आपको ये काम आते हैं तो आप अकाउंट मेनेजर या टैली ऑपरेटर के पद पर कार्य कर सकते हैं. इसके अलावा किसी लोन, फाइनेंसियल सर्विसेज आदि में भी नौकरी कर सकते हैं.

गवर्नमेंट सेक्टर में जॉब: टैली का कोर्स करने वालों के लिए गवर्नमेंट सेक्टर में भी काफी सारे करियर के अवसर मिलते हैं. आपको किसी Bank या किसी Govt. Institute में Tally Operator का काम मिल सकता है. आपकी किस्मत अच्छी रही तो उससे भी बड़े पद पर नैकरी मिल सकती है.

वेतन: टैली का कोर्स करने के बाद अगर आपको एकाउंटिंग की जानकारी हो जाती है, तो आप चाहें तो पार्ट-टाइम काम कर के 8000 से 10,000 हर महीने आसानी से कमा सकते हैं. साथ ही अगर फुल टाइम कम करते हैं तो शुरुआत से ही 15,000 से 30,000 कमा सकते हैं.

और जानकारी के लिए विडियो देखें

अगर आपने टैली सॉफ्टवेयर में पहले कभी काम नहीं किया है और आप इसका टुटोरिअल देखना चाहते हैं तो हमने आपकी सुविधा के लिए एक विडियो एम्बेड कर दिया है. इस विडियो में Tally का लेटेस्ट वर्शन ERP 9 के जरिये जानकारी दी गयी है.

अंतिम शब्द

हमने आपको टैली और उसके कोर्स के बारे में काफी जानकारियाँ दे दी हैं. हमें उम्मीद है कि आपको जो कुछ जानना था वह सब हमने बता दिया है. अगर अब भी आपके मन में कोई कंफ्यूजन है तो हमें नीचे कमेंट में पूछ सकते हैं.

इन्हें भी पढ़ें:

आपको हमारा यह लेख Tally Kya Hai कैसा लगा यह भी Comment में बताने कि कृपा करें. साथ ही लेख पसंद आया हो तो इसे सोशल साइट्स या फिर अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें.

Harsh Lahre
दोस्तों, मै Harsh Lahre इस Fire Hindi ब्लॉग वेबसाइट का एडिटर और फाउंडर हूँ. इस ब्लॉग में हम टेक्नोलॉजी से रिलेटेड जानकारियाँ शेयर करते हैं. साथ ही आपकी तकनीकी समस्याओं का समाधान भी बताते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here